धारा 80सी आयकर अधिनियम, 1961 | Section 80C Deductions in Hindi
Close
Close

Buy a Life Insurance Plan in a few clicks

Now you can buy life insurance plan online.

Kotak e-Term Plan

Protect Your family’s financial future with Kotak e-Term Plan. Know more

Kotak Assured Savings Plan

A plan that offer guaranteed returns and financial protection for your family. Know more

Kotak Guaranteed Savings Plan

A plan that offers long term savings and insurance in one premium. Know more

Kotak e-Invest

Insurance and investment in one plan with Kotak e-Invest. Know more

Kotak Health Shield

Insurance against medical expenses related to heart, brain, liver and Cancer. Know more

धारा 80सी आयकर अधिनियम, 1961

धारा 80सी आयकर अधिनियम, 1961
  • 26th Sep 2022 |
  • 2,911

आपने अपनी कर योग्य आय को कम करने के लिए कुछ वित्तीय साधनों में निवेश के बारे में सुना होगा। लेकिन क्या आप इन सभी के बारे में जानते हैं? ये उपकरण न केवल आयकर कटौती का दावा करने में उपयोगी हैं बल्कि लंबी अवधि के लिए धन बनाने में भी मदद करते हैं।

आइए धारा 80सी क्या है, उसकी लिमिट, 80सी कटौती सूची और विभिन्न कर बचाने वाले निवेश विकल्प को देखें जिन पर आपको विचार करना चाहिए।

आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80सी क्या है?

आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80सी व्यक्तियों और हिंदू अविभाजित परिवारों (एचयूएफ) को कर-बचत निवेश और खर्चों को कर कटौती के योग्य बनाकर कर योग्य आय को कम करने की अनुमति देती है। इस धारा के तहत कुल वार्षिक आय पर ₹1,50,000 की सीमा लागू है जिससे कटौती चाहने वाले व्यक्ति भी विभिन्न बाजार योजनाओं में शामिल हो सकते हैं और अधिनियम के तहत अपनी आय के हिस्से पर कटौती का दावा कर सकते हैं। धारा 80सी के तहत लाभ विभिन्न भुगतानों पर कर कटौती के प्रावधानों से संबंधित हैं। योग्य अर्जक और करदाता प्रत्येक वर्ष कटौती में ₹1,50,000 लाख तक का दावा कर सकते हैं, जो कि धारा 80सी, 80सीसीसी, और 80सीसीडी के तहत उपलब्ध कुछ कटौतियों का मिश्रण है।

धारा 80सी के तहत कर योग्य कटौती

करदाता हर वित्तीय वर्ष में बड़ी मात्रा में समय लगते और प्रयास करते हैं ताकि करों पर पैसे बचाने वाले निवेश करने के लिए रणनीतियों पर शोध और खोज की जा सके। बैंकों या अन्य वित्तीय संस्थानों में जाने से लेकर एजेंटों से संपर्क करने या ऑनलाइन उपलब्ध कई कर-संबंधित उत्पादों की सूची से भ्रमित होने तक, यह प्रक्रिया काफी म्हणत भरी और लम्बी हो सकती है। इसके आलावा दूसरी बड़ी परेशानी है कि आप वित्तीय भाषा को समझना और लागू करना आम तौर पर संघर्ष भरा कार्य है क्योंकि आपका शैक्षिक इतिहास गैर-वित्तीय हैं।

अपनी मेहनत की कमाई को प्रभावी ढंग से उपयोग करने और बढ़ाने के लिए आपको टैक्स प्लानिंग की बारीकी को समझना चाहिए। नौकरी पेशा लोग अपनी कमाई के आधार पर अलग-अलग टैक्स ब्रैकेट में आते हैं। हालांकि, सरकार ने आयकर अधिनियम की धारा 80सी के तहत प्रावधान प्रदान किए हैं जो विभिन्न कटौती की अनुमति देते हैं ताकि उन्हें पैसे बचाने में सहायता मिल सके। कर-बचत योजनाएं और पहल जो व्यक्तियों या एचयूएफ सदस्य को कर लाभ प्रदान कर सकती हैं, उन्हें धारा 80सी कटौती सूची में शामिल किया गया है। धारा 80सी कटौती सूची में जाने से पहले, उपलब्ध विभिन्न कर कटौती से खुद को परिचित करना एक अच्छा विचार है।

धारा 80सी कटौती सूची को दो श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है:

  • व्यक्ति की निवेश गतिविधियाँ आप अपना पैसा किसी फंड या स्कीम में कुछ समय के लिए लगाते हैं, फिर उसे अतिरिक्त ब्याज और फायदे के साथ वापस पाते हैं।
  • व्यक्ति की व्यय गतिविधियाँ आप अपना पैसा धारा 80सी निवेश सूची में डालते हैं।

टैक्स बचाने के लिए नीतियां

धारा 80सी के तहत कटौती का लाभ उठाने के लिए, आप कई योजनाओं <का विकल्प चुन सकते हैं। निम्नलिखित कुछ बीमा पॉलिसियाँ हैं जो धारा 80C के तहत कर बचाने में मदद कर सकती हैं:

1. पब्लिक प्रोविडेंट फण्ड (पीपीएफ)

1961 के आयकर अधिनियम की धारा 80सी प्रत्येक वर्ष किए गए पीपीएफ योगदान पर कर कटौती की अनुमति देती है। आप पीपीएफ में निवेश कर सकते हैं जिसकी अधिकतम निवेश सीमा ₹1,50,000 प्रति वर्ष है। इस पॉलिसी में 15 साल की लॉक-इन अवधि होती है। साथ ही, मैच्योरिटी के बाद मिलने वाले रिटर्न पर भी आपको दोहरा लाभ देने वाले टैक्स से छूट मिलती है।

पीपीएफ खाते आपको तीन कर लाभ प्रदान करते हैं: जमा पैसो पर कटौती, कर-मुक्त रिटर्न, और कोई संपत्ति कर नहीं। धारा 80सी के तहत कटौती के रूप में पीपीएफ निवेश का दावा करने के लिए आपको अपने आयकर रिटर्न में पिछले वर्ष के लिए अपने पीपीएफ निवेश का विवरण जमा करना होता है।

2. जीवन बीमा प्रीमियम

आप अपने, अपने बच्चों या अपने जीवनसाथी के जीवन बीमा के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम की धारा 80सी के तहत कटौती का दावा कर सकते हैं और कर लाभों का आनंद ले सकते हैं। आप टर्म इंश्योरेंस जैसी आयकर बचत योजनाओं में निवेश करना भी चुन सकते हैं जो आपको अपने प्रियजनों के वित्तीय भविष्य की रक्षा करने में मदद करता है। मगर याद रखें यदि आप अपने माता-पिता या सास-ससुर के लिए प्रीमियम का भुगतान करते हैं तो आप इस तरह के फायदे के पात्र नहीं होंगे। हालाँकि, यदि आपके पास एक से अधिक पॉलिसी हैं, तो आपको उन सभी पर कुल ₹1.5 लाख तक कर लाभ का दावा करने की अनुमति है।

3. यूनिट-लिंक्ड बीमा योजनाएं (यूलिप)

यूनिट-लिंक्ड बीमा योजनाएं जीवन बीमा और निवेश लाभ दोनों प्रदान करती हैं। वे निवेश की गई राशि पर धारा 80सी के तहत आयकर लाभ भी देते हैं। कर-कटौती लाभ गारंटीकृत राशि या वार्षिक प्रीमियम के 10% तक (दोनों में से जो भी कम हो) उपलब्ध हैं। इसके अलावा, यूलिप आपको बाजार से जुड़े कई फंड विकल्पों में से चुनने की अनुमति देकर आपको अपने निवेश को अधिकतम करने की सुविधा देता है। आप यूलिप कैलकुलेटर का उपयोग यह अनुमान लगाने के लिए कर सकते हैं कि आपके प्रियजनों के लिए कितना बीमा कवरेज पर्याप्त होगा और आपको इसके लिए कितना भुगतान करना होगा।

4. इक्विटी-लिंक्ड बचत योजना (ईएलएसएस)

ईएलएसएस या इक्विटी-लिंक्ड सेविंग्स स्कीम एक ऐसी विविध इक्विटी म्यूचुअल फंड है जिसमें 3 साल की लॉक-इन अवधि होती है। यह आपको लंबी अवधि के रिटर्न के साथ टैक्स सेविंग बेनिफिट देता है। लॉक-इन अवधि शेयर बाजार के निचले स्तर के प्रभाव को कम करती है और निवेश किए गए धन को जोड़ती है।

5. एम्प्लोयी प्रोविडेंट फण्ड (ईपीएफ)

ईपीएफ खाते का उपयोग मासिक आधार पर आपके वेतन का एक हिस्सा जमा करने के लिए किया जाता है जिसे कर से छूट दी गई है। एकत्रित पैसों पर अर्जित ब्याज को नियंत्रण में रखा जाना चाहिए क्योंकि एक निश्चित सीमा से अधिक ब्याज कर योग्य हो जाता है।

6. फिक्स्ड डिपाजिट (एफडी)

बैंक में फिक्स्ड डिपाजिट धारा 80सी के तहत कटौती के लिए पात्र है, लेकिन यह 5 साल की लॉक-इन अवधि के साथ आते हैं, जहां समय से पहले निकासी की अनुमति नहीं है। पांच साल की एफडी में अर्जित ब्याज कर योग्य है और कर-बचत लाभों के लिए योग्य नहीं है।

7. नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (एनएससी)

एनएससी एक टैक्स बचत स्कीम है, जिसे आयकर की धारा 80सी के तहत क्लेम किया जा सकता है और इसमें पांच साल की लॉक-इन अवधि होती है। अर्जित ब्याज कर योग्य है लेकिन चूंकि ब्याज खाते में जमा हो जाता है, और इसे पुनर्निवेश के रूप में माना जाता है, यह धारा 80 सी के तहत एक नए दावे के लिए योग्य है।

8. सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम (एससीएसएस)

एससीएसएस वरिष्ठ नागरिकों के लिए उपयुक्त है और पांच साल के कार्यकाल के साथ आयकर धारा 80 सी के तहत कटौती के लिए योग्य है। इस योजना में निवेश करने के लिए आपकी आयु कम से कम 60 वर्ष होनी चाहिए। यदि आप स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेना चाहते हैं, तो आप 55 वर्ष की आयु के बाद इस विकल्प को चुन सकते हैं।

9. सुकन्या समृद्धि योजना

यह छोटी बालिकाओं के लिए एक बचत योजना है जो कर लाभ के लिए पात्र है। बालिका के माता-पिता या कानूनी अभिभावक बच्चे के 10 वर्ष की आयु तक पहुंचने तक इस योजना के तहत खाता खोल सकते हैं। यह योजना एक परिवार की दो बालिकाओं के लिए उपलब्ध है और जुड़वा बच्चों के मामले में तीसरे बच्चे के लिए अलग खाता खोलने की अनुमती होती है। यह रकम कुल 15 साल के लिए जमा करनी होती है जो 21 साल बाद मैच्योर होती है।

सुकन्या समृद्धि योजना के बारे में अधिक जानें: सुकन्या समृद्धि योजना क्या है?

10. नेशनल पेंशन स्कीम (एनपीएस)

नेशनल पेंशन स्कीम उन कर्मचारियों के लिए एक पेंशन पॉलिसी है जिनके पास सेवानिवृत्ति के लिए बनाई गई पेंशन प्रणाली नहीं है। यह योजना भारत सरकार द्वारा निजी क्षेत्र में काम करने वाले कर्मचारियों के लिए उनकी सेवानिवृत्ति के लिए बचत करने के अवसर के रूप में शुरू की गई थी। यह काम करने वाले पेशेवरों के लिए एक अच्छा निवेश उपकरण है जो 18 से 60 वर्ष के आयु वर्ग के लिए खुला है। यह निवेश तब तक लॉक-इन में रहता है जब तक आप सेवानिवृत्ति की आयु तक नहीं पहुंच जाते लेकिन योजना में 10 साल पूरे करने के बाद इसे आंशिक रूप से निकाला जा सकता है।

11. होम लोन प्रिंसिपल रीपेमेंट

अगर आपने किसी बैंक या वित्तीय संस्थान से होम लोन लिया है, तो आप होम लोन के मूलधन की चुकौती राशि पर धारा 80सी के तहत ₹1.5 लाख कटौती का लाभ उठा सकते हैं।

12. पांच वर्षीय पोस्ट ऑफिस फिक्स्ड डिपाजिट योजना

इस योजना की अवधि 1-5 वर्ष है और ऐसी योजना में निवेश करके आप आयकर अधिनियम की धारा 80सी के तहत कर कटौती का लाभ उठा सकते हैं।

13. नाबार्ड ग्रामीण बॉन्ड्स

नाबार्ड, या राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक, दो प्रकार के बॉन्ड्स प्रदान करता है, अर्थात भविष्य निर्माण बॉन्ड्स और नाबार्ड ग्रामीण बॉन्ड्स। आयकर अधिनियम की धारा 80सी के तहत, इनमें निवेश करने पर आप ₹1.5 लाख रुपये की कटौती के पात्र बन जाएंगे।

धारा 80सी के तहत उप-धाराएं

आयकर अधिनियम की धारा 80सी में कटौती सूची व्यापक है जो उपखंडों में विभाजित हैं। यह करदाताओं को सबसे अच्छा विकल्प चुनने और अच्छे वित्तीय निर्णय लेने की अनुमति देते हैं।

धारा 80सीसी

इस खंड का उद्देश्य लोगों को सरकार द्वारा अनुमोदित पेंशन योजनाओं में शामिल होने के लिए वित्तीय प्रोत्साहन प्रदान करके अपनी मेहनत की कमाई को संरक्षित करने के लिए प्रोत्साहित करना है। एक व्यक्ति और उनके नियोक्ता दोनों के भुगतान कर-कटौती योग्य हैं, जब तक कि कटौती व्यक्ति की आय के 10% से अधिक न हो। केवल व्यक्तिगत करदाता ही इस कटौती का लाभ उठा सकते हैं।

धारा 80सीसीसी

धारा 80सीसीसी के तहत पेंशन फंड निवेश पर कर कटौती की अनुमति है। यह खंड किसी भी कंपनी के पेंशन फंड पर लागू होता है और अधिकतम ₹1.5 लाख की कटौती प्रदान करता है। केवल व्यक्तिगत करदाता ही इस कटौती का दावा कर सकते हैं।

धारा 80सीसीडी

व्यक्तियों को आयकर 80सी की उप-धारा 80सीसीडी द्वारा बचत करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है, जो उन्हें केंद्र सरकार द्वारा अधिसूचित पेंशन कार्यक्रमों में निवेश करने के लिए प्रोत्साहन प्रदान करता है। केवल एक व्यक्ति और उनके नियोक्ता द्वारा कर्मचारी के वेतन के 10% से कम योगदान कर कटौती के लिए पात्र हैं। यह विकल्प केवल व्यक्तिगत करदाताओं के लिए उपलब्ध है।

धारा 80सीसीएफ

धारा 80सीसीएफ लंबी अवधि के बुनियादी ढांचे के बॉन्ड की सदस्यता पर धारा 80सी के तहत कर कटौती और लाभ की अनुमति देता है जिसे सरकार ने अधिसूचित किया है। यह हिंदू अविभाजित परिवारों और व्यक्तियों दोनों के लिए खुला है। इसके तहत अधिकतम ₹20,000 की कटौती का दावा किया जा सकता है।

धारा 80सीसीजी

अधिनियम की धारा 80सीसीजी प्रति वर्ष ₹25,000 की अधिकतम कटौती की अनुमति देती है, जिसमें कुछ व्यक्तिगत निवासी पात्र होते हैं। इसके अलावा, सरकार इक्विटी बचत कार्यक्रमों में निवेश की अनुमति सरकार द्वारा कटौती के लिए दी जाती है; हालांकि, जमा की गई राशि के 50% पर अधिकतम सीमा निर्धारित की गई है।

धारा

कर कटौती

निवेश

धारा 80सीसीसी

₹ 1,50,000

पेंशन और वार्षिकी योजनाओं के लिए जीवन बीमा योजना

धारा 80सीसीडी

₹ 1,50,000

केंद्र सरकार की पेंशन योजना (एचयूएफ इस कटौती के लिए पात्र नहीं हैं)

धारा 80सीसीएफ

₹ 20,000

सरकार द्वारा अनुमोदित लंबी अवधि के बुनियादी ढांचे के बॉन्ड में निवेश

धारा 80सीसीजी

₹ 25,000

सरकार द्वारा अनुमोदित इक्विटी बचत योजना में निवेश

धारा 80सी के तहत कटौती के लिए भुगतान

1. जीवन बीमा के लिए भुगतान

अगर आपने लाइफ इंश्योरेंस या टर्म इंश्योरेंस खरीदा है, तो प्रीमियम के लिए किए गए भुगतान का दावा आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80सी के तहत किया जा सकता है। इसके लिए, बीमा आपके या आपकी पत्नी और बच्चे के नाम पर हो सकता है। धारा 80सी के तहत जीवन बीमा प्रीमियम पर छूट की अधिकतम सीमा ₹1.5 लाख है। इसके अतिरिक्त, छूट के लिए दावा की जा सकने वाली कुल राशि बीमा राशि का 10% होना चाहिए।

2. गृह ऋण का पुनर्भुगतान

यदि आप होम लोन के मूलधन का भुगतान कर रहे हैं, तो वह राशि धारा 80सी के तहत कटौती के लिए पात्र है। इस कर छूट में स्टांप शुल्क और पंजीकरण के लिए किए गए भुगतान भी शामिल हैं।

3. बच्चों की फीस का भुगतान

आप केवल पूर्णकालिक पाठ्यक्रमों के लिए भारत के स्कूलों, कॉलेजों या विश्वविद्यालयों में अपने बच्चे के प्रवेश के लिए भुगतान की गई फीस का दावा कर सकते हैं। उस विशेष वित्तीय वर्ष के लिए अधिकतम दो बच्चों के लिए धारा 80सी के तहत कर छूट का दावा किया जा सकता है।

धारा 80सी और धारा 80डी के बीच अंतर

अंतर

धारा 80सी

धारा 80डी

अर्थ

पीपीएफ, ईपीएफ, एलआईसी प्रीमियम, ईएलएसएस, यूलिप, एसएसवाई, एनपीएस, आदि के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम के लिए कर कटौती और छूट की अनुमति देता है।

स्वयं, परिवार और माता-पिता के चिकित्सा बीमा के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम और निवारक स्वास्थ्य जांच पर किए गए खर्चों के लिए कर कटौती और छूट की अनुमति देता है।

अधिकतम सीमा

₹1.5 लाख तक

₹ 1 लाख तक

कर लाभ का दायरा

उच्च कर लाभ की अनुमति देता है

कम कर लाभ की अनुमति देता है

उप-अनुभाग

80सीसी, 80सीसीजी, 80सीसीसी, 80सीसीडी, आदि जैसे उप-वर्ग शामिल हैं।

80डीडी, 80डीडीबी, आदि जैसे उप-अनुभाग शामिल हैं

बहिष्कार

छूट केवल व्यक्तियों और एचयूएफ के लिए लागू होती है, न कि कंपनियों के लिए

तीसरे पक्ष द्वारा या नकद के माध्यम से भुगतान किया गया प्रीमियम।

1. आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80सी के तहत कौन कर छूट का दावा कर सकता है?

कोई भी व्यक्ति और हिंदू अविभाजित परिवार (HUF) आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80सी के तहत अपनी वार्षिक आय से ₹1,50,000 का दावा कर सकते हैं।

2. क्या कोई व्यक्ति विभिन्न वित्तीय साधनों में निवेश कर सकता है और प्रत्येक प्रकार के निवेश के लिए ₹1,50,000 तक की कटौती का दावा कर सकता है?

नहीं, कोई व्यक्ति उस विशेष वित्तीय वर्ष के लिए केवल ₹1,50,000 का दावा कर सकता है, भले ही वे विभिन्न वित्तीय साधनों में निवेश कर रहे हों।

3. जीवन बीमा पर किन कर लाभों का दावा किया जा सकता है?

आप आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80सी के तहत जीवन बीमा हासिल करने के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम का दावा कर सकते हैं। आप धारा 10(10डी) के तहत अपनी मृत्यु की स्थिति में परिपक्वता लाभ या अपने परिवार द्वारा प्राप्त मृत्यु लाभ पर भी कर छूट प्राप्त कर सकते हैं।

4. धारा 80सी के तहत वरिष्ठ नागरिक बचत योजना पर कर छूट का दावा कौन कर सकता है?

जैसा कि वरिष्ठ नागरिक बचत योजना वरिष्ठ नागरिकों के लिए है, SCSS में निवेश करने के लिए आपकी आयु 60 वर्ष होनी चाहिए। लेकिन अगर आपने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ली है, तो आप 55 साल की उम्र के बाद निवेश शुरू कर सकते हैं।

5. धारा 80सी क्या है?

आयकर अधिनियम, 1961 के तहत धारा 80सी कर बचत प्रदान करने वाले निवेश और व्यय को सूचीबद्ध करता है। आप इस खंड के तहत अपनी कर योग्य आय से ₹1.5 लाख तक की कटौती का दावा कर सकते हैं। यह लाभ केवल व्यक्तिगत करदाताओं और हिंदू अविभाजित परिवारों (एचयूएफ) पर लागू होता है।

6. क्या यूलिप में निवेश धारा 80सी के अंतर्गत आता है? मैं निवेश किये गए धन को कब वापस ले सकता हूं?

यूलिप के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम धारा 80सी कटौती के लिए पात्र हैं। पांच साल के लॉक-इन चरण के बाद, आप अपने संचित धन का एक हिस्सा तत्काल वित्तीय जरूरतों के लिए भुना सकते हैं। कोटक लाइफ से कई यूलिप उपलब्ध हैं। आप अपने निवेश और कर-नियोजन लक्ष्यों से मेल खाने वाले किसी एक का चयन कर सकते हैं।

7. आकलन वर्ष के लिए धारा 80 सी के तहत कटौती के लिए जीवन बीमा प्रीमियम के मामले में न्यूनतम होल्डिंग अवधि क्या है?

धारा 80सी के तहत भुगतान किए गए जीवन बीमा प्रीमियम के लिए कटौती का दावा करने के लिए, दो साल की न्यूनतम होल्डिंग अवधि पूरी की जानी चाहिए। यदि एक जीवन बीमा पॉलिसी को दो वर्ष की न्यूनतम होल्डिंग अवधि से पहले समाप्त, बेचा या अन्यथा स्थानांतरित किया जाता है, तो पिछले वर्षों में अनुमत कटौती को उस वर्ष की आय माना जाएगा जिस वर्ष पॉलिसी समाप्त, बेची गई, या अन्यथा स्थानांतरित की गई है।

Download Brochure

Features

  • Increasing Life Cover*
  • Guaranteed^ Maturity Benefits
  • Enhanced Protection Through Riders
  • Tax Benefits
  • Dual Benefits: Guaranteed^Maturity + Death benefits

Ref. No. KLI/22-23/E-BB/999

T&C

Browse our library of resources

Download Brochure

Features

  • Enhanced Protection Through Riders
  • Life Cover
  • Tax Savings
  • Multiple Premium Payment Terms
  • Guaranteed @ Loyalty Addion
  • Accrued Guaranteed @ Additions

Ref. No. KLI/22-23/E-BB/490

T&C

- A Consumer Education Initiative series by Kotak Life

Similar Articles

What is Section 80C - Explained in Detail

Understanding Tax Exemptions in ULIP (Old and New)

Income Tax Deduction Under Section 80CCC In India

Income Tax Deductions for Disabled Person Under Section 80U

Insurance and Endowment: Everything You Need to Know!

Financial Benefits and Government Schemes Every Woman in India Should Know

Tax Season Is Coming- Know How to Save Tax

Why is Form 16 Important?

ITR 2 Form – Complete Guide

Income Tax Exemption for Disabled

Tax Benefits of ULIP Plans Available for NRIs

How to File Income Tax Return for First Time Tax Payers

Income Tax Exemption for Physically Handicapped Dependent

LTC Cash Voucher Scheme October 2020 – Everything You Need to Know

Should one prefer a guaranteed savings plan over monthly income schemes?

What Is Advance Tax and How Is It Calculated?

Impact of GST on Life Insurance in India

How to e file ITR on Income Tax Government Portal

Tax-Free Income in India

5 Unusual Investments You Didn't Know for Saving Taxes in India

Who Should Invest In Savings Plan

What are the Different Types of Taxes in India?

Why January Is an Important Month for Saving Tax?

What is the Percentage of Tax Deducted at Source (TDS)?

Tax Saving for Self Employed in India

What is TDS Exemption Limit?

What is Section 80C Deduction?

Tax Exemption and Scope of Coverage

E-Filing of Income Tax Returns in India

A Complete Guide for Filing ITR 3 Form

प्रत्यक्ष कर और अप्रत्यक्ष कर में क्या अंतर है?

What is TDS Slab?

How to File TDS Return?

Income Tax Deductions & Exemptions under Sections 80C, 80D & 80DDB for FY 2021-22 & 2022-23

Tax-Savings Investments and Options in India

How to Pay Advance Tax Online in India

Can You Get Term Insurance Without Income Proof?

भारत में महिलाओं के लिए सरकारी योजना

Income Tax Deductions Under Section 80C

What is Form 26AS - All You Need To Know

Tax Deductions You MUST Know

Why Tax Planning Should Be an All-year Round Activity

Section 10 (10d) of Income Tax Act, 1961 on Payouts of Life Insurance Policy

What is Section 10D of the Income Tax Act?

Have You Considered Term Insurance a Part of Your Tax Planning?

Top 8 Tax-Saving Methods in India- Budget Planning

Types of Riders in Insurance Policy

What is TDS Refund Process?

Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana

How to save tax for salaried person?

How to Check Income Tax Refund Status Online in India

Section 80C Deductions as per Income Tax Act, 1961

Tips to plan your savings in 2019

Sub-sections Under Section 80C of the Income Tax Act, 1961

How to Check Income Tax Refund Status Online in India

Save Income Tax by 31st March: Here Is a Checklist

Do Beneficiaries Pay Taxes on Life Insurance?

Tax Planning and Tax Benefits of Life Insurance

What is Form 16B?

8 Things to Help You Select a Savings Investment plan

How to File Form 16 for Salaried Employees?

How to File Form 10E for Tax Relief on Salary Arrears?

Difference between Section 80C, 80CCC, 80CCD & 80D

What is Salary Protection Insurance and Why You Need It

Section 44AD of Income Tax Act for AY 2021-22

Interest Imposed Under Sections 234A, 234B and 234C

How to File Income Tax Return - Everything You Need to Know

What is HRA (House Rent Allowance) and How is HRA Exemption Calculated?

What is Form 16A?

What Investment Options Come with Tax Incentives?

Tax Structure in India

आयकर स्लैब 2021-2022

Tax Benefits for Startups in India

Tax Benefit of Investing in Term Plan

Investing Lump Sum Amount

What is ITR & How to File Income Tax Return?

How to View 26AS and Download Form 26AS Online?

How Much Money This Budget 2019 Can Help You Save

Excess TDS Deduction – Claim TDS Refund

What is ITR 5 Form and How to File ITR 5?

How to e-Verify your Income Tax Return

What is the Maximum Maturity Benefit in Assured Savings Plans?

What is Section 80C Deduction Limit?

Tax Saving Options for Salaried Employees

Problems People Face with Tax Returns after a Job Change

Penalty For Late Filing TDS Return

इनकम टैक्स रिटर्न कैसे फाइल करें?

Income Tax Benefits for Doctors

What are Deferred Savings Plans?

Income Tax Filing For NRI in India

All You Need to Know About Section 80C

Income-Tax Liability- The Difference Between Gross Income & Total Income in Calculating Income Tax

How to Save Tax on Salary Arrears?

Types of Income Tax Return (ITR) Forms

How to View 26AS and Download Form 26AS Online

A Guide to Life Insurance Policy’s Tax Benefits and Taxability

How can I get Form 16B from traces?

Presumptive Taxation for Business and Profession

What is the Difference between Form 16 and Form 16A?

Income Tax Slabs and Rates in India for FY 2021-22/AY 2022-23

5 Popular Tax-Saving Schemes in India

आयकर रिटर्न (आईटीआर) फॉर्म के प्रकार

Union Budget Highlights – 1st February 2022

Budget 2019: Impact on the Common Man in India

How to Check Income Tax Returns Status Onine?

How to Download Form 16?

Guaranteed Return Plans-Why is it a must for you?

Tax Saving Guide for 2019-20

What is Tax Evasion and What Are The Penalties For Tax Evasion In India?

Guide for Tax Calculation on your Salary

How to File Income Tax Return without Form 16

TDS Due Dates of FY 2020-21 For Return Filing

Section 80G of the Income Tax Act

Investment Proofs You Need Submit To Lower TDS Cut From Your Salary

Financial Planning and Best investment options for Housewives

What is the TDS Rate on Salary?

What is the Last ITR Filing Date and Penalty for Late Filing of ITR?

Section 80D - Medical and Health Insurance Tax Benefits Under Section 80D

What are Direct Taxes? How to Avoid being Overtaxed?

Are Financial Planning and Tax Planning the Same Thing?

ITR 1: Sahaj Form

How to Calculate returns on an assured savings plan?

Difference Between Guaranteed and Assured Returns

How to file Form 16 online?

How To Save Tax Using Life Insurance?

Everything You Need to Know About Tax Benefits of National Pension Scheme (NPS)

धारा 80डी आयकर अधिनियम, 1961

Income Tax Filing Using Multiple Form 16

How To Save Tax Better with 80C

What is Tax Deduction at Source (TDS)?

52 Weeks Savings Plan: Daily Savings Plans for a Better Tomorrow

Home Investment Plan to Buy Dream Home

Tax Saving Options other than Section 80C

Received an Income Tax Notice? Your Guide to Understanding Intimations under Section 143 (1)

Section 80E: Tax Exemption on Interest on Education Loan

Things to Do After Filing Income Tax Returns

What is Section 80CCC of the Income Tax Act 1961

What is a savings plan?

All about TDS on Salary under Section 192 – Kotak Life

What To Do If Your TDS Is Not Deposited With The Government?

How to Save Income Tax with Insurance

Tax Saving Tips: Best Ways to Save Income Tax for 2021

ITR-6: Guide to filing ITR-6 Form online

All about TDS Payment Online & Due Dates

List of Important Income Tax FAQs

When Should TDS be Deducted and Who is Liable to Deduct it?

How to File ITR Online

What is Section 195 of the Income Tax Act? TDS on Non-Residents of India

Saving Income tax in 2017 - 18

How to Get Form 16?

सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) के कर लाभ क्या हैं?

9 Income Tax Myths That Could Cost You Money while Filing returns

A Comprehensive Guide to Understand the ITR 7 Form

Section 16 of the Income Tax Act (ITA), 1961

Challan 280 - How to Use Challan 280 to Pay Income Tax

What is the Difference Direct Tax and Indirect Tax